समर्थक

मंगलवार, 1 फ़रवरी 2011

"उत्तर आओ ज्ञान बढ़ाएँ-पहेली:68" (अमर भारती)



अमर भारती साप्ताहिक पहेली-67 का
का सही उत्तर है!
* नैरो गेज की पटरियों पर।
* बहुद्देशीय परियोजनाओं के स्थलादि 
तक / पर सामान ढुलाई के काम।
इस पहेली के विजेता हैं-
डॉ. सिद्धेश्वर सिंह
निम्न प्रमाणपत्र 
डॉ. सिद्धेश्वर सिंह जी की सम्पत्ति है।
आपके प्रतिभाग करने के लिए आभार!
अपनी टिप्पणियाँ आप स्वयं ही देख लीजिए न▬

दर्शन लाल बवेजा ३० जनवरी २०११ १०:१८ पूर्वाह्न 

नैरो गेज

दर्शन लाल बवेजा ३० जनवरी २०११ १०:२१ पूर्वाह्न 

यह इंजन बैराज के गेट खोलने बंद करने के काम आता है

sidheshwer ३० जनवरी २०११ २:०६ अपराह्न 

* नैरो गेज की पटरियों पर।
* बहुद्देशीय परियोजनाओं के स्थलादि तक / पर सामान ढुलाई के काम।

गजेन्द्र सिंह ३० जनवरी २०११ ८:१६ अपराह्न 

यह नेनों गेज पटरियो पर चलता था और टोय ट्रेन मे कम आता था

गजेन्द्र सिंह ३० जनवरी २०११ ८:१७ अपराह्न 

मीटर गेज

गजेन्द्र सिंह ३० जनवरी २०११ ८:२४ अपराह्न 

यह इंजेन नेराल माथेरान ट्रेक पर चलती थी

गजेन्द्र सिंह ३० जनवरी २०११ ८:२६ अपराह्न 

नेरो गेज ट्रेक पर ,
यात्रियो को लाने ले जाने के लिए

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ३१ जनवरी २०११ ७:४८ अपराह्न 

मीटर गेज की लाईन पर

रावेंद्रकुमार रवि ३१ जनवरी २०११ ८:२६ अपराह्न 

यह नैरो गेज का इंजन है! 
फिलहाल यह दर्शकों के लिए शारदा बैराज, 
बनबसा में निष्प्रयोज्य खड़ा हुआ है! 
यह परियोजनाओं की सामग्री को ढोने के काम आता है!

2 टिप्‍पणियां:

बंटी "द मास्टर स्ट्रोक" ने कहा…

शास्त्री जी,
लगता है की आप इस पहेली को जबर्दस्ती चला रहे है, इस बार भी कुल मिला कर 9 टिप्पणिया प्रपट हुई है जिनमे से चार एक ही आदमी की थी
कुल मिला कर 6 टिप्पणियॉ से आप किसी पहेली को चलाएँगे तो ऐसा ही लगेगा कि ये जबर्दस्ती चलाई जा रही है

कुछ अच्छा पूछिये ताकि लोग यहा पर आ सके और ये पहेली भी कुछ चल सके या फिर इसे बंद कर दीजिये

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" ने कहा…

खिसीयानी बिल्ली खम्बा नोचे!
उत्तर न आया तो बंटी ऐसी टिप्पणी करने लगे!

Google+ Followers

चुराइए मत! अनुमति लेकर छापिए!!

Protected by Copyscape Online Copyright Infringement Protection

लिखिए अपनी भाषा में