समर्थक

मंगलवार, 25 जनवरी 2011

"उत्तर आओ ज्ञान बढ़ाएँ-पहेली:67" (अमर भारती)


अमर भारती साप्ताहिक पहेली-67 का
का सही उत्तर है!
शारदा बैराज
बनबसा, जिला-चम्पावत
उत्तराखण्ड

इस पहेली का विजेता कोई नहीं है-
आपके प्रतिभाग करने के लिए आभार!
अपनी टिप्पणियाँ आप स्वयं ही देख लीजिए न▬

13 comments:

गन्ना चूसे मस्तानी २३ जनवरी २०११ १२:३४ अपराह्न 
हाय बुढऊ अंकल? कैसे हो? यह चित्र ऋषिकेश बैराज, ऋषिकेश, उत्तरांचल का है। और यह जवाब मुझे बंटी भैया ने बताया है।
बंटी "द मास्टर स्ट्रोक" २३ जनवरी २०११ १:०४ अपराह्न 
क्रेयटिव मंच पहेली का जवाब *********************** पहली आवाज है बशीर बद्र दूसरी आवाज है जावेद अख्तर
बंटी "द मास्टर स्ट्रोक" २३ जनवरी २०११ १:०४ अपराह्न 
ऋषिकेश बैराज, ऋषिकेश, उत्तरांचल
नीरज जाट जी २३ जनवरी २०११ ५:११ अपराह्न 
ये तो हरिद्वार के पास भीमगोडा बैराज है।
गगन शर्मा, कुछ अलग सा २३ जनवरी २०११ ६:२९ अपराह्न 
बैराज है। कहां का यह ज्ञान तो उत्तर देख कर ही पता चलेगा।
दर्शन लाल बवेजा २३ जनवरी २०११ ८:५८ अपराह्न 
डाकपत्थर बैराज ,उत्तरांचल
बंटी "द मास्टर स्ट्रोक" २४ जनवरी २०११ ३:१२ अपराह्न 
Chaudhari Charan Singh Bhimgoda Barrage, haridwar
बंटी "द मास्टर स्ट्रोक" २४ जनवरी २०११ ३:१८ अपराह्न 
चौधरी चरण सिंह घाघरा बैराज, कोसी नदी पर बना है
बंटी "द मास्टर स्ट्रोक" २४ जनवरी २०११ ३:२८ अपराह्न 
गिरिजा बैराज,
डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" २४ जनवरी २०११ ३:३५ अपराह्न 
लगे रहो प्यारों! बगल में छोरा नगर में ढिंडोरा! क्लू नहीं दूगा! अपने आस-पास के परिवेश का क्या क्लू?
बंटी "द मास्टर स्ट्रोक" २४ जनवरी २०११ ५:२७ अपराह्न 
गंगा बैराज, बिजनोर, उत्तर प्रदेश
बंटी "द मास्टर स्ट्रोक" २४ जनवरी २०११ ५:२७ अपराह्न 
क्यो शास्त्री जी अबकी बार तो सही जवाब खोज ही लिया न
दर्शन लाल बवेजा २४ जनवरी २०११ ९:४३ अपराह्न 
राम गंगा बैराज है क्या सही उत्तर आ गया जी
गन्ना चूसे मस्तानी बिटिया!
बुढ़ऊ को बुढ़ऊ कहने में कोई हर्ज की बात नहीं है। फिर तुमने तो मुझे अपना अंकल समझकर यह कहा है और अंकल तो तुम्हारे पिता यानि डैड का भाई हुआ न!

5 टिप्‍पणियां:

बंटी "द मास्टर स्ट्रोक" ने कहा…

शास्त्री जी, प्रणाम

ये कैसी पहेली पूछिए है आपने जिसका कोई जवाब नहीं दे पाया ?

जवाब नहीं दे पाया तो कोई बात नहीं पर आपकी पहेली पर आई टिप्पणिया तो देखिये,
कुल मिला कर 13 टिप्पणिया आई है जिनमे से 7 मेरी है और 1 आपकी !!!!

और लोगो ने केवल 5 टिप्पणिया की है, कृपया मेरे चक्कर मेरे अपने ब्लॉग का स्तर न गिराए, पहेलिया पूछिये और इस तरह से पूछिये जिंका जवाब तो कम से कम मिले ?

बंटी "द मास्टर स्ट्रोक" ने कहा…

आपकी ब्लॉगर मिलन के बारे मे पढ़ा , अच्छा लगा पढ़कर

बंटी "द मास्टर स्ट्रोक" ने कहा…

"गन्ना चूसे मस्तानी बिटिया!बुढ़ऊ को बुढ़ऊ कहने में कोई हर्ज की बात नहीं है। फिर तुमने तो मुझे अपना अंकल समझकर यह कहा है और अंकल तो तुम्हारे पिता यानि डैड का भाई हुआ न!"

बहुत शर्म की बात है, लोग अपने से बड़ो का आदर करना भी नहीं जानते

बंटी "द मास्टर स्ट्रोक" ने कहा…

शास्त्री जी, लगता है आप इस समय ऑनलाइन है,

कृपया बताए ब्लॉग को वैबसाइट मे किस तरह से बदला जा सकता है

नीरज जाट जी ने कहा…

शास्त्री जी,
आपसे एक गुजारिश करता हूं कि एक बार हरिद्वार जाइये। हर की पैडी में डुबकी लगाइये, फिर एक मेरे नाम की भी लगाइये। पास में ही भीमगोडा बैराज है। एक बार देखकर यह बताइये कि शारदा बैराज के उस चित्र और भीमगोडा बैराज के हर की पैडी वाली धारा के ऊपर से खींचे चित्र में क्या फरक है।
कोई फरक नहीं है। अगर आप थोडी देर के लिये शारदा बैराज के उस चित्र को भीमगोडा बैराज का बता देते तो बन्दा खुश हो जाता और कोई माई का लाल इसे गलत सिद्ध भी नहीं कर पाता।

Google+ Followers

चुराइए मत! अनुमति लेकर छापिए!!

Protected by Copyscape Online Copyright Infringement Protection

लिखिए अपनी भाषा में