समर्थक

रविवार, 14 मार्च 2010

"रविवासरीय साप्ताहिक पहेली-24" (अमर भारती)

रविवासरीय साप्ताहिक पहेली-24 में
आप सबका स्वागत है।
आपको पहचान कर निम्न चित्र का
नाम और स्थान बताना है।

paheli 24

उत्तर देने का समय 16 मार्च, 2010
अपराह्न 5 बजे तक।

परिणाम बृहस्पतिवार 16 मार्च, 2010 को 
सायं 7 बजे प्रकाशित किये जायेंगे।
पहले सही उत्तर देने वाले प्रतिभागी को
नम्बर-1 दिया जायेगा
और पहेली का
विजेता घोषित किया जायेगा।
इन्हें रविवासरीय आन-लाइन प्रमाणपत्र दिया जायेगा।
जिसे वह अपने ब्लॉग पर लगाने के अधिकृत होंगे।
सही उत्तर देने अन्य प्रतिभागियों को
क्रमश: 2-3-4-5- के स्थान पर रखा जायेगा।
रविवासरीय साप्ताहिक पहेली–25
अगले रविवार को
प्रातः 9 बजे प्रकाशित की जायेगी।

19 टिप्‍पणियां:

अल्पना वर्मा ने कहा…

Bangla Sahib Gurdwara, New delhi

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

क्ल्यूः-पहेली का उत्तर जानने कि लिए
पंजाब की ओर चलें!

अल्पना वर्मा ने कहा…

theek..us taraf jaate hain..

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

पता नहीं

Babli ने कहा…

अकल तख़्त जो गुरु नानक जी के जन्मदिवस पर सजाया जाता है ये अमृतसर, पंजाब के हरमंदिर साहिब में स्थित है! अकल तख़्त गुरु हर गोविन्द द्वारा शुरू किया गया था!

Babli ने कहा…

अकाल तख़्त साहिब, अमृतसर, पंजाब में स्थित है !

वन्दना ने कहा…

harminder sahib......golden temple ,amritsar , punjab.

वन्दना ने कहा…

pahla uttar galat hai .

ye to akal takht sahib hai punjab mein.

अल्पना वर्मा ने कहा…

Akal Takhat Sahib,
Amritsar, Punjab
[Akal Takht is located in the Harmandir Sahib complex in Amritsar, Punjab]

प्रकाश गोविन्द ने कहा…

Akal Takht located in the Harmandir Sahib complex in Amritsar, Punjab

Udan Tashtari ने कहा…

Gurudwara

Udan Tashtari ने कहा…

Hari Mandir Sahib (or Darbar Sahib).

Amritsar

M VERMA ने कहा…

स्वर्ण मन्दिर, अमृतसर

Gagan Sharma, Kuchh Alag sa ने कहा…

आपने तो "अमृतसर, पंजाब यात्रा के चित्रों" में हिंट भी दिया। स्वर्ण मंदिर में बने इस भवन का। पर अपुन क्या करें जब नाम ही याद ना आ रहा हो। :)

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

यह अकाल तख्त, स्वर्ण मंदिर, अमृतसर ही है, लोक कर लिजिये.

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

यह अकाल तख्त, स्वर्ण मंदिर, अमृतसर है जी.

रामराम.

Udan Tashtari ने कहा…

अकाल तस्त, अमृतसर...


Akal Takhat

(Operation Blue Star जहाँ हुआ था)

Udan Tashtari ने कहा…

AKAL TAKHAT

It rightly faces the Harmandir Sahib. Built by the Sixth Master Guru Hargobind (1606-44) in 1609, has been the nerve centre or the Sikhism ever since. All commandments affecting the community as a whole were and are issued from here. The Akal Takhat was used for holding court and Sikh congregations in the days of its builder.

The Akal Takhat was pulled down several times by the Muslim raiders. The ground floor of the present building was constructed in 1 874. Three storeys were subsequently added by Maharaja Ranjit Singh. A number of weapons used by Guru Hargobind, Guru Gobind Singh and other Sikh heroes are preserved at Akal Takhat. In 1984 during Operation Blue Star Akal Takhat was badly damaged by the Indian Army.

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

साणू ते इन्ज जापदा ए जिवें ऎह गुरूद्वारा श्री तरनतारन साहिब होवे...बाकी वाहेगुरू जानदा ए

Google+ Followers

चुराइए मत! अनुमति लेकर छापिए!!

Protected by Copyscape Online Copyright Infringement Protection

लिखिए अपनी भाषा में